मत्त-रुद्र-जयताल बंदिशें (Matt-Ridra-Jaytaal Bandishein)

By किरण फाटक (Kiran Fatak)

$7.00

Description

४५ बंदिशों के इस अलग पुस्तक को आप के सम्मुख प्रस्तुत किया है l इस पुस्तक में विशेषता है- ताल की। मत्तताल (९ मात्रा), रुद्रताल (११ मात्रा) तथा जयताल (१३ मात्रा) इन तालों में बंदिश-रचना का एक प्रयत्न यहाँ लेखिका ने किया है। अधिकतर बंदिशें राम, कृष्ण तथा शिव-शंकर इन देवताओं के
विषय पर हुई है।

साधारणत: विषम मात्रासमूह होनेवाली बंदिशें संतूर, सतार, बाँसुरी इन वाद्योंपर आज बजाई जाती है। किन्तु गायन में यह प्रमाण कुछ कम ही दिखाई पड़ता है। संगीत की अथांगता को देखते हुए इन तालों पर गायकों का ध्यान कुछ कम आकर्षित हुआ है, ऐसा उनका मत है।

इस किताब की इन बंदिशों को विद्यार्थि तथा गायक-गायिकाएँ गाएँ और रसिकों को कुछ नया समर्पित करे l

इन तीन तालों के ठेके के बारे में विविध मत दिखाई दिए, इस हेतु इन तालों के बारे में प्रसिद्ध तबला-वादक श्री.स्वप्निल भिसे जी से सलाह-मशवरा करके उन्हें
यहाँ प्रस्तुत किया गया है। उनके इस सहायता के लिए उनका विशेष आभार।

Additional information

Weight 75 oz
Language

Hindi