जाल समेटा (Jaal Samaeta)

By हरिवंशराय बच्चन (Harivansh Rai Bachchan)

$7.00

SKU raj355
Categories ,

Description

बच्चन जैसे भाव-प्रवण कवि समय के साथ अपनी कविताओं को अनेक रंगों में चित्रित करते हैं। ‘जाल समेटा’ की कविताएं उन्होंने 1960-70 के दशक में लिखी थीं। लोकप्रियता के शिखर पर पहुंच कर जीवन की वास्तविकता के संबंध में उनके मन में अनेक भाव उठे। ‘जाल समेटा’ में उनकी इन भावनाओं को सजीव करती उत्कृष्ट कविताओं को पढि़ए। बच्चनजी के शब्दों में, ‘मेरी कविता मोह से प्रारंभ हुई थी और मोह-भंग पर समाप्त हो गयी।’

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “जाल समेटा (Jaal Samaeta)”

Your email address will not be published. Required fields are marked *